পাতা:প্রবাসী (ঊনত্রিংশ ভাগ, দ্বিতীয় খণ্ড).djvu/১৩১

উইকিসংকলন থেকে
পরিভ্রমণে ঝাঁপ দিন অনুসন্ধানে ঝাঁপ দিন
এই পাতাটির মুদ্রণ সংশোধন করা প্রয়োজন।


2 b8 প্রবাসী-কাৰ্ত্তিক, ১৩৩৬ [ २** औन, २* १७ निरrश्व जनांदांबन ठणनाांद्र बड़े ध्वनिक प# पथन भांथा बौछू कब्रिण, ७षब ८बौर्षीवश्चंद्र थङांण वर्षnांझ्-छांक८ब्रब छांग्न शैखिकांजौ ॥ ॐहांब गूरकर्ष, बांछ cषभन *१ब्रांश खtfठब्र मश्डि खांब्रडबोनौब्र बाबहांब्रग्रंड बिबांब्र१ tबदरबा जांबब्र! जिब्रजां१ cनबिब बांकt*ब्र नहिङ जांभरनष्ठब्र बांडिद्र ठरटाषिक शीर्षका ध्णि,-बांभद्रा मृtनड़ *३ कथाके छूजिब्र वांनून उगब्र शृश्-निर्वार१ डशङ इन्ब्रादि । बांकन बब्रहठा कaिtन७ ठांहांब्र मखविदtzबब्र गांवा ब्रांछनखिब्र हिज बाँ, बांकनंथांथांछ ब्रकांब्र बना ब्रांछविषि fझण, १#iषिकब्रt१ बांकनं८क गांका क्विांङ्ग अना जांश्तांन कब्रtभशांशां° बलिग्न भषा हङ्गेष्ठ ; जांक्रtiब्र विकांब्र बांकनंह कब्रिड, अठिदफ़ नहिंठ कई कब्रिtण. cकवण निषां कर्डन जथवा विखनान कब्राहे कुझांड *ांखि बजि11 क्ट्रिन्निष्ठ श्रेष्ठ । अप्लांक cर्शौक यङांप्व खांठिनङ अहे निकोब्रन ६«वषा मूव्र कबेिब्रl छांब्रटङ अथख छ।iछि थडिल्लेiब्र विवि यदर्डन क८ब्रम ॥ ब्रta1 -बदलां८कब्र **वाबझांब्र-जमठो** नौठि केंडिशांनथनिक पछैन । कुँह बांब्रां बुनिष्ठ, ज-शृश, अनारी, नूह नकण छांडिब्र गरिङ उांकाशंब७ छूण विकां८ब्रब्र बावज्ञ इग्न । cर्श€ावर •ठrमब्र हेहांझे कांब्र१ । cछन्ननौडिब्र छेणब्र छांब्रएछञ्च ब्रtश्रj यष्टिél *शबitछब्रहे ब्राज़िंगठ बाह, स्नेह बांभांtप्रब्र अमृडेशङ क्न । २०* इंडे नूसांप्ल cगेच्प्क्री ५णभिज बांक्रrतब वक्लवाङ्ग cत्रौर्षादश्नब यडूरु कुर्न कब्रिब्र सत्र-दशrतब यठि* करब्रन । बेगूणाभ-थचाँ काणाशांशप्छब्र बांब लनिग्न आभब्रा इर्भाग्न नॉनिकt कृ*िड कब्रि : किड अशश्रउि जताएकब्र •s••• रांबांब ‘प{ब्रांबिका ধ্বংস্ত্রকল্লি লেজযুগের দর্শন, ইতিহাস, ব্যাকরণ অগ্নিগুপে নিক্ষেপ कब्रिग्रां cशैकैश्मिांब भूष्णग्tाह्tष छांबtठब डेडिशन बिकिश् कब्रिण कांशांद्रl, ७iह fक थांछ उiविषांब्र विदग्न बtर । बिलिझ थई नश्वचष्ट्र कद्विग्ना नांत्रां★न “भशबाब" ५ई थकाब्र कtब्रब ; किड़ बाठि-tतवrभ তাহানিফল হইল । রাজ্যের পর রাজ্য পরিবর্তনের মূলে এই ভেদেই जांबब्रां शैनदौर्ष हऐणांब ॥ ठेउब्र-गकिय नौवांरखब्र शांछि बांछि जवाहरल जांभांtनद बग्न कब्रिब्राँ ज*ण । चांबब्रl cनविन cर्वाक बब्रगठि जt*ारकब्र “बावहांड-नबष्ठां* नहि बांडे, किख थांब है९ब्रां८छब्र छूजांमt७ बांधान क७icजब्र निक. नाथन, नांगरबब्र नमांन बारह भांश शांछिब्रां बहिरङहि । थाभांप्यब्र गब्रांशैबठांद्र भूण ७३ cन चजांडिविtवर, ठांश মোৰ, গুৰ, ৰণু অৰ, ওগুণে স্বাধীন হইগও দূৰ করিতে পারে պtՆ I--- नहथ बदनब्र cन थदकांनं थांबद्ध बार्ष कब्रिष्टांहि । जानांप्रूड्र “बावहांब्र-जथडाइ” विषि cवक्बि नृप्जद्र गरिफ जणब्रांशैौ बांकtनंब नभांबडांप्य नृजांtबtख्न ७ कांब्रांबांटनम्न बाबड़ी कब्रिज, cनर्मिब ●ठिविषि९णाग्न छांबtठब्र बअनाबौर्षा जांब्रषांटौ इ*ष्टe कू% कtब्र बांडे । Tअङ्गख्द्रि कि नििश्लेख गबिरान। डेश्बाङ-ब्राडक्प्७ बग्नकुमारब ३ानी cनके नबाटtब्र छब्र इरे हॉजांब्र व९नब्र ग८ब्र जांबांब्र खांशन कब्रिणइीब्र छांछि अर्षीiब11००० cर्शौक अछांर बांधार+ब दांत्रषळ बच कब्रिब्रांछिज ; बचनषद जांच्चयाथांबा शूनः यठिé कबेिब्रॉ cर्वाrखद्र ष* छद्धि*ाव, निक ७ छांटबद्ध ठौर्ष cषतांडब्रिज्र कब्रिग्न झांछिब्रोक्विण। ७डे कूद्रप्कब थांभूरबब्र cनाभनाथ ठून कब्रांड जcगक्र कत्र शैड९न बTांगाब बtश् ॥ cवप्न ७३ ८च बन्शृश्याः खखिङ्गं शश्ा, झश ङistप्रह्ल शृंश्चङ्ग अंश्श बप्श्, जखडt डेखिहान पठांइ वजिप्प न । वखकांच्च *कवर्ड बब्रगठि ठौन cर्वाखनबांtफेब्र जांtषप्तं ब्रांछषर्ष अह१ अर्षिकांग्रैौ नप्श्-aहे जत्रूनानन बूख्न माजाब) अप्ठि पोश श्डेब्राप्णिन। बाश्रदब ब्रङ छत्रबान बाछन चूब cखान चeज बt{ब्र क८ब्रम बांश् : उीब क्षिांन छांब्रङ cषडांtव चचौकांब्र कब्रिग्रां८इ, बनव शृषिबौब्र ८कांन बांछि करब नाहे । बडूषा जिनष्काकि अब्रवीघ्नौब बडू इeब्राद्र अविकांब, जांब अजवित्रré कूड गल्लर थांबा कब्रिज cष बन+ा बांखि गडड चोच्चब्रकांब्र छंविग्रं, छांहांटनब्र छैणंब्र निर्डब्र कtब tकन ? (প্রবর্তক-ভাজ, ১৩৩৬) সভ্যতার সূচনায় প্রাচ্যে ধৰ্ম্ম-প্ৰণালী ও উপাসন-পদ্ধতি कौनां ॐडिहांनिकत्रt*ब्र बाङ बर्डबांब छौटनब्र छेखब्र-गूर्ख चरनरे छैौन-जडाठांव भूल ८कछ । विप्नन ह*८ठ शैवाविप्नब्र जांभभप्नब कषा कौनाखांबांद्र जिशिड ८कांब हेडिहांन-शtइ जिलिंबछ बांश् । Hirth4ब्र भट्ठ * क्षिtब्र cबांब कब्लिग्न किङ्क न कणां* fोक (De Lacouperien Ars, swu, wrifosful to ‘Bak' बोडिब्र जयौवह Nakhunte नामक ब्रांबl छैiशॉब्र बयौन खांडिeणि लहब्र! कौ८न ऍणबिटवनं ज्ञां★म क८ब्रन) । छौबा छेन्कशॉब्र भक दाब cव, P"an-ku नामक अक थडूठ बोव रश्ध्ठ अवृषा-वरप्तब ऍडद इब्रri---P"ankuब्र गब्र बनsि विछिद्र बून cनव इहtन गब्र ठरव Ru-hiब अञ्च । ७झे विर्छौ{ नबब्रछां८* *चनौब्र ब्रांखछद***viोर्षिव ब्रांत्रछवर्न”, “गक फुांनब”, “कूलांब्र-बिईाष्ट्रभ१" यङ्कठि जीजांtषणt कब्रिग्र निद्यां८इन ।। 4नमब्रकांब्र अश्रूवाननं निब्रांभिव जाहांब्र कब्रिएल ७ जौबभ७जी शब्ब=णब्रटक ख्रिश्न कब्रिङ न । cन अकनडावून-दि८*ष हिण । ब३ गङाबूत्रब जश्नांtन बाकूष थांप्राब छछ बौद-खड़ क्षश्न कब्रिटङ बॉब्रख कब्रिज । cवांथ हम्र मॉ१न निष्क कब्रियांब्र छछ Suाjon नांषक 4क ब्रां●1 अग्निब जाविकांब्र कब्रिtणन । कृङ्गेषांनि कोड़ेष७ घर्द१ कब्रिtण बधिंब छे९गखि हब्र, झेश Sujonअब्र यथॉन बांबिकांब्र। Suijon ●क ●यकांब्र जिषन-यनंiजौब्र७ ऋडकéीं, पठांहांब्र as "Knot Writing." Suijonas •itse Fu-hi atsg कब्रिटङ जांबछ कtब्रम ॥ ●वनिक कौबांsiषांविषू अॅठिहॉनिक Hirth बाणब, P"an-kn हहे८ङ Ru-hi •र्षीख गवब्रवाifी कांजरक, कठकल्ले cखांब कब्रिज्ञ, कठकछणि नरकृठि-बूनक ऎब्रठिब दूर्ण बजिब्र वब्रां बांहेष्ठ नt८ब्र । बधब &वध ह*८ड८इ cय, ७ई जबब्र छैोबांभर*ङ्ग ष*क्चिांन ७ ॐांनन!-*खडि किङ्ग* हिज ? Boulger थ aधाश्वब्र छखब्र छूरे अकङ कथांब्र ५-व कब्रिब्रां८छन । छैiहांब xv "The earliest religion of the Chinese consisted in the worship of a Supreme Being, who was the sovereign both of the Heaven and of the Earth:-- Originally, and . in its essence, the religion of the Ühinese was as far lemoved from materialism as can be onnoeived.'देहॉब्र $"ब्र किनि मांज थांब 4कs कषl खजिब्रां८इन। कक्षांकि बड़े-छैौटबद्र यांछैौन व#थ*ांजौ हिब्रविtनइ a८कवड़वांटमब्र जाबको1थवृकण झ्णि ● शैलइडे अचांडवांद्र नाङ चङ बरगद क्रूरीडेशैबtन१ छ९थल्लोब्लिफ वtईब बप्वक उषj खांडfहरणब I००० Sht४-King4 णि”थछ क्विब्रन ए*८ख चक्छ जांब वांद्र cय, योझैौन शैवांन१ ●८कचबषांशै हिरणन ॥ Shang-ti जर्षीं९ **ानक-अ♚” बtषडे खखि ७ विचांप्नब्र गiज हिटजन ॥ इंडे षtáब्र गरिफ बरे षtáब्र कठकल्ले विण cवषl वांद्र ! Shang-ti छांछ बछ ८षवtषणैब्र प्लेगांनन बांछौन छैौटत्व बढ़-4कü1 &यछजिठ हिन बां । शtéब्र गāिst ! शूरबांश्छिनत्तयषांtाद्र छैणद्र छल श्णि ब। अछि गरिोप्ञ्च श्रृंश्कर्सी चद्रा श्रृत्त्वाच्द्रि कोर्ष कोब्राख्न अप१मबाई नबज cषप्तब्र ग्रंथांब नूरज्ञiहिङ झिtजन । भेचtब्रङ्ग अँछहांकूनां८ङ्ग ब्रांबांब्र ब्रांबच कtब्रन, बेंचरबब हाष्ट्र उद्दे शूबकांब छिद्रकांब बिर्डद्र काब, अरे