পাতা:প্রবাসী (ঊনত্রিংশ ভাগ, দ্বিতীয় খণ্ড).djvu/৪৯৬

উইকিসংকলন থেকে
পরিভ্রমণে ঝাঁপ দিন অনুসন্ধানে ঝাঁপ দিন
এই পাতাটির মুদ্রণ সংশোধন করা প্রয়োজন।


৩য় সংখ্যা ] जांकन cब्रटवडेबिबांध्य वृaिtत्रांछद्र कब्रॉन बांडेtख नोटब ।। खेखञ्च जांकांच, पकिन जांकांचं, cमब्रयtषटवब्र छब्रबांन क्वि इब्रबांन ब्रॉबि. जमड ब्रांबि, जवड केिव, tä:वdछेब्रिब्रांरब छांहीe नखद ॥ छिद्र अव &rदखांब्रां बांथांब्र छेणब्र इटैं८ड छबबाज cब्रथा जञ्जिद रूब्रिब्राँ थख पांद्र । प्रबूब छविछाछद्र विचक्रण षषन ८*भां' अबडांब्रांब इांन जवेिकांइ कब्रिटर, छांहांटक७ cप्रtवैब्रिब्रां८व यडJक कब्र शांच्च । téथt८छ ॐब्र बज्र পঞ্চশস্ত = প্লেনেটেরিয়াম ፀ8ግ ●३ वजैश्च बांम Projector ॥ ॐहांब्र चाइl cछाद्बध्न भोछ। नकज खांबl. *श्छेणजzहब्र इक् ि८क्मण कांब्र ॥ ●के वजडिब इले बांथांच इशक अङ्काव्षण लिहाङ जांप्लाक चांटइ ॥ बरखाखल बाषांत्र २७ * कfब्रब्रl cजण. चांदइ ॥ cजण-4ब्र नन्छांटख ●कs diaphragm জাছে । লেন্স, এর নির্মাণকৌশল এরূপ আশ্চৰ্য্য cद बकॐ cनलई वह खांद्वांद्र चोष्णांक निक्रिख कब्रिटख °ांद्दछ । अखब चांकांtतब डांब्र-शडेब बछ बैक बांषा अवर पकि५ चांकाप्तब्र कछ थगब्रब्रि यदबाजव बह। अदृ *पर रप्रीब अखि नक्ट्जद्र नछि श्लेष्ठ विछिद्र बणिब्रां छांदांडा षप्जद्र नषाछाप्न खबशङ्किङ ॥ हारज्ञां८क८ब्रज्ञ tझटनtèब्रिङ्गांव cमप्नट:ब्रिब्रांत्र शृंप्इड इश्नांकांब झांकड़े जांकांनं । ‘«याप्ङ♚ब्र' श्रेष्ठ थाप्ना निकिछ इन्द्र वषाशांप्न अरडोबांद्र ऋ= करब ।। झांबविप्नंरबद्ध हांग्रैौ चांकांचं ऋडेि कब्रिब्रांडे ** बडझे कांछ हम्न अॉ ॥ छiब्रविविtछेद्र ऋषा धक# मन्शू4 क्वि ३ब्र ! इउब्राँ१ छदकत्व देहांटनञ्च अखि छेणजकि कब्र बांब्र। शृषिणैज्ञ अकलेिन = भिनिके शांघ्नौ ह*प्न अबज अह १.२ विविटके वृहन्नखि ०१.९ विविti, *निश्वर ९ पके ०० विनिटके प्रर्षटक चपचिन ङटा। अक्टिक छब sav cनटकt७ अष९ बूष sv cनrख्र७ बन्वन् कज़िंद्रा ऋरीब्र छांब्रिक्ट्रिक बूबिछ जाप्न । अक♚ cवांडांभ गिब्रा केtाना हकेटख 8खब्रटबङ्गरछ छजिब्रां बां७ब्र पांडेrड श्रृंitब, अबखांब्रां छपन बांषांब्र छनरब्र, प्रर्षी छषन दबूद्र पकिन चांकांटन । जबड क्वि-द्वंiजि ●कमांज सजजtर नखक् ॥ tझरबdैब्रिक्वांटम डांहांब वृश्चe षष्ठांव बांब । शृषिर्षीब्र cवक्रषरखब अलि बरनन्छ • *खबांच्च बांख कद्विग्ना cव७ब्रां हव्र ॥ करण नृषिगैब 4खधिक छिद्रकांण प्रारीख जांछiरण षां८क, बांब्र ●कर्षिक छिब्रकांज क्रूरवैज्ञ क्टिक ॥ cनषांटन क्रूरवrब्र ऐशबांच् छेछब्रई जबर्डबांब ॥ !r