পাতা:প্রবাসী (ঊনত্রিংশ ভাগ, দ্বিতীয় খণ্ড).djvu/৫৫১

উইকিসংকলন থেকে
পরিভ্রমণে ঝাঁপ দিন অনুসন্ধানে ঝাঁপ দিন
এই পাতাটির মুদ্রণ সংশোধন করা প্রয়োজন।


అతి घांचकांग्रंथहछ कचबौद्र कूण कायदे थाहइ । चतंगबलंक चांबब्र! थांबांरबङ्ग बtषा कडे द” .* বৃদ্ধি এবারে হাসিয়া ফেলিয়, বলিল, “এটা জাপনি चदक्ख् िजघन थांभांङ्ग £नथां★हज ६' चांकि अत्र अखिाएँ *াগ্য । এএকেৰায়ে খণ্ডৰ " दूषकख शनिब थक् कणिण, “चांगनांrक चकिञ्चि थ#ज अधूनि ¢éडांच करब निएा बांऋि जां । किक ७ दक/** चांकबरक बांजिtब्र बांधश् ि८द,चांननॉरक चकांकांtनञ्च दिनंद थटकांचव । चक्षचत्रि ऋश धांज ग्रन्रब cखरष cदक्कन १ ●एँ गिण,क्षकालद चiश्यंश्च नैश्वंबं, इवेिषांघड अब्रां कदा चाँ**ॉछ बच्नंघङ बांनां८वब । चांव्ह, बषन €f । चां★नि ८कांषां७ ८वक्रकन ८बांब इह-थtजक tदकै कzछ हिणांच *ि* दूषक चकांचाच अकन जबकत्र कहिक छविब cघव । इकएकच ‘oनवॆौ कण क्रिणांध' ककै छबिक इकिल बब कि अंक ब्ररूब किज इदेछcणणcष, cण अडिबबकच्चक्कै रूरिङ फूनिन थप cर कां★बईirज् दूवक fकांना निषिझश्चिाहिथ cनै४ चछक्नकलांध्षणप्कd cकविझ कहिच हरेद्य चक्रिण । घवयाच चकोरच् इचिकहे इकि चशक रहेद <वर्ण । दैहिब्रश्च कर्त्रक छचब अकर्ड* deविष्ण बांक ब्रॉथिछ वैककिरणदिव । कुकि चरज कुकिटच्रेcव इीछ भनाऐव १ ७ ब्रकब•चवहांब बुकिं cगषांटन पैकदेरब, कि छविद चञहिष अविष्णयह अकब जबद इक्बाब्र घांक जकरकचवांदू कच इकिछ थनिश्चय, “वरण इंदि. <खांथाच गटक कथा चह्नद्धह t* ककटाक्याह्न थॉडौरी ७ कथः क्वचि ब्रकब cपथिक्क कृकि चकांचच चकांक ददेचा cनव १ चपाच कण “करर इंप्य चाश्रब्र च " गयटबषकांबू छांधैौटक जदेब्रा किडूनि षांना ७ चांगांणड डूकैडूÉ कत्रिज्ञ चपडबूब्र चाचणी ८षाबद्य धर्वाद cरूनकख चक्॥ श्रांषेिङ्गरह्म पणिहां कक् िकछकॐ बिछिख इरेवरिझब अकन नषद cनन इदेष्ठ क्निक्कांtणब्र *वडूधष चांगिझ खैरारक नवनचकि क्रियन <व, रवकच पच निद्रांप्छ, अशहरू sखचकैोहक चांषः व्रण ज% छषिण्ण छविङरङ नकहरुभत्र हैस्त कर लिचक क्चर बालसात గో-శాN, లిరి ২৯শ গঞ্জ জি खेको हिंद विषाक्य कक्ष उक्कैि थोत्र चायत केन् ●बू कविक खेfण्यच, बकत्ररकब्र घएक गकिक निक्रनांच अव८ब्रच छांदiटक थड़ दृकjचाँe ब्रांथंघांब्र किया छांदिख कांश हऐटबज १ कखकt ऋषकांद्रणकांछनीच उपगार cगषिक, कज्कत्र अशव क्षिप्रब ८कब चविकथनषे पदच fक कविदा अ*cडक गचदि. अक् पनिकञ पिङ्कइशैव चनिकांब अचि tननर्मिक वक्श्रवणख गयाधान ভাছাৰে ৰেণ বৰল পৰ্যন্ত কলেজে পড়াইতেছিলেন। এই संनःि श्*िचौलं ८खश्च श्च श्रॆष्ठॆहिष बं, शिख पक्किन्न श्रदर्ण छाइरहद्र थलनि कि विनियिरङ् । . মৰণে বৃদ্ধিকে বলতে লাগিলে,-“কাৰ আধাৰ बांकीटङ ८ग* cषट्क इकांबषज उवण्णांक बह्वाइन ! ॐक इचषांब्र वाणिांब्र¥रक. चछ ८छांएष cनषदह्ञ, বলছেল—ওকে স্বার বাষ্ঠীতে রাখা চলে না।” इकि इरेcञष रूक्षtब इणिा बजिन, “यह कट्ज ” *बांग्लब, खांबहिणांच शक्रंटक ८कांटन oश्रछेण-ट्वॉर्डिं६● ब्रांथ छटूब कि जां * - इक् िपृथकांटव बनिष्ठा फेfण, “डांब्र चांtनं अवरुण ভাল হয় ঐ বর্ষারগুলোকে এখগুৰি জ্ঞাপনায় বার্তীতে चिचांच्च कब्रांज्ञ हैं★शृॉब्र **. जभहत्वचं शाख इंदेश रुणिरणन, “बरख घरख ! च कवी बज छरण वा इकि-रूंद्र एणजब क्यरबन्न घथलनांक १ चखि खैरलब्रहक वॉर्कौ इरख दिवांइ कञ्चन खैर्झरे थांकाशक किंद्रकांग्लबब थख जघांच रूख चिदतंब्र ८णदृबन f” ** °खड्गदत्व जूझटबङ्ग-° - यमटबच बांव क्छि कविह्णच, *पांडू इचि, ७-छएकख गयब बब ॥ थर्षन ●कई बांटनांव शैवांश्नांश्च श्रृंद्रांघर्न क्रिछ ऋांब कि बl खण ” कुकि èरङबिउख्रषदे वणिरङ थॉर्णिण, *८ष इमाबद्दक घांथनि बांब झब यांशैरछ हब दिदछ नचिराइज बां, छांच्च স্থান বোর্কিং-এ কি করে হৰে ?” फेडरब जनरब्रचंबाबू कि cवन वणिरङ बाँदेखहिथन, किरू बुकि ब्ररथं नंत्र १ध कऋिछ कबिटङ <वर्षांन हरेटख बाहिब हदेझ cनव *