পাতা:প্রবাসী (ঊনত্রিংশ ভাগ, দ্বিতীয় খণ্ড).djvu/৫৯২

উইকিসংকলন থেকে
পরিভ্রমণে ঝাঁপ দিন অনুসন্ধানে ঝাঁপ দিন
এই পাতাটির মুদ্রণ সংশোধন করা প্রয়োজন।


8ts সংখ্যা । কষ্টিপাখর—গ্রন্থাগারের ইতিহাস á8● उरग इथैग्न छ्ठौद्र भठांचीtठ जtब्रनिब्रांtनद्र चांशबtiब्र गवद्र अरे গ্রন্থাগারের ইতিহাস नां#ांनांबक७ उन्बोइड इरब्र शांब्र । अंइtनांtब्रब्र देजिहांन वह ●धांल्लेौब-बटनाक बtन करब्रन cष अइॉजब्रछरजां गवई थकांप्लब थांबकांबँौ । वभिांजी जांविङ्कछ इदांब्र बह भूर्तिरे वषन वांछ्व निtबब्र जडtब्रब्र छांवकन औरक cषषांध्रू निं८ष८ङ, छषन ८षदकई अंशांनांदब्रब $९°खि इ'८ब्रटझ् ।। 4ब्र यभां* चक्रण थावि तयू कच्कचनि विष्णप्ञ्चब ७ cक्रनब बृडेख छणइभिङ कङ्कर-॥ त्रिश्नं८ब्रब्र &यंiछैौन गछTel ● चिंब्रकलांब्र औखख विजह cष निब्रांबिछ छ tडब्रि कब्रॉब्र७ शूरसर्ष, बितब अरग्रब्र यांच्च *ाँtछ हांछांब्र वृक्कब्र उवांटन ॐ विश्व८ब्रङ्गरै श्रृंiथ८ब्रब्र छैॉलिब्र श्रृंiäांत्रांब्र १थन भांछैि भूtफ़ बांब कब्र रtब्रटझ् -चांब cनरे नव छैiणिरठ ज्यू थांcरू কতকগুলো ছবি আঁকা। তারপর আমেরিকার অধ্যাপক মিঃ ছিলপ্রেখটু ব্যাবিলনের নিপুর সম্বরের মাটির নীচে পচিশ হাজার वृखिक कणक मामठ ७कÉ1 सफ़ अशांशां८ब्रब्र क्षश्नांवt*ग बांब्र क८ब्रन, 4ष९ &धबांनं क८ब्रन cष cनर्छि जख७s झुंtडेब्र छऋांदांब्रे ७ s हांखांब्र बछब्र चांcणंब्र । »ve = मांटल भि८ cणब्रांॐ बिtबछ नह८ब्र जिनं कञिनं यूके cर्षेtष्क्लांब ॰ब्र बककै पक चांब्रांश्चाग्न cटरकांगों अकtब cजथा कठकखजि गांथ८ब्रब्र छैiजि •ांन, बरुर् असिडब्रां बांतिकांब्र क८ब्रन cष cगül cवोष इग्न जriनिब्रियांद्र ब्रांछ1 जांॐांनश्रृंशtनब्र गां?ांगांब्र । जांब्र ८महे *ांठांनांब्र c५८करे “देखांब्र ७ हैनृथूनांश* dआकर्षांना अशांकांब] बख्श् “श्tभब्र' ७ “जांकांक्ष' नांcघ नांtष इdठे छांछिब्र वह वांछेौन देखिशांम अप३ अॉब्र७ कठ कि আবিষ্কৃত হয় । - औzनब्र विनूल *छिब्र७ खिखि झ्णि अहे नक् viां#ांजाब्र । cनश् cर्षाणिक गांश्छिा शडिब्र पूजड़े हेछक्लिछ भिनिनüüान् ८मयः जTाब्रिडेछेण ●कृठि नबीब्रहे निटजब्र निtछब्र श्रृंizां★ांब्र झिल -०० ग्रनिद्राप्नब नमब नांनाब्ररूrमब्र नूठन नूठन शृणकानि नश्शूशैड इ'tठ षांक ॥ aभवकि cवषकांटण खti cधन विलांनिष्ठांब्र •र्षrांब्रভূক্ত হয়ে পড়ে । এবং এই সমস্ত পুস্তক সংগ্রহের ফলে জালেকबां१ि ब्रांब्र गां#ांत्रांब्र नव गां★ांत्रांब्रटक झांगिzग्न छüझ्णि । वशांशैब्र थांप्नकअTां७izबब्र cननांगठि यषभ रजनि वैश्वांप्न इडे अशांलग्न স্থাপন করেন-একটি ক্রকিয়াম এবং আর একটি সেরাপিয়ামে । विठौद्र $प्नबो जावाब 4हे नाiानांब इsष्ठ नर्कनrवड ०१ जक परे न१थर कब्रtङ cनtब्रङि८जब । छूठौब्र छैtणग्रेौब नमब्र छे९*ीझन করে পুস্তক-সংগ্রহের চেষ্টা চলেছিল তাই আলেকজ্যাণ্ডিয়ার बन्वरब वर्षमरे ८कांव खांशांछ क्रे निtब्र जागृङ, जमनि छांशtअब्र अषJtकब्र कांझ cथक खळ-यtब्रां८ण tन गबख रहें हसनंङ कब्रl द'ठ ॥ ५ ब्रकभ कदब्र उभू ठांब्र गूजक ग९अंश क८बहे निकिख ছিল না—দান দেশদেশাস্তর থেকে পণ্ডিত, কবি, সাহিত্যিক ও ८णषक ●प्न "कौशदछेiब्रिब्रांटम" (नकजषांबांग्र ) छांटशद्ध विरङ्ग हांखांदब्र हाँबांtब्र बांनांदनट-ब्र बरे बकल कब्र इङ-छोकां#िञनि cणथांन हछ -चावाब्र रूङ नूठन बूख्न ब३७ ब्रानो कब्र रङ। यठषावि অঙ্কাৰ চেষ্টা পরিশ্রম ও আয়োজনের ফলে আলেকজ্যাপ্তি স্থায় गांiांभाद्र क्षन गर्लबबतिक्ठि हtब्र छdझ्णि छपन कूजिब्रान निजीब $षांब अञ्चलोजनांब्र जपौब्र ह'cब्र 4ाकक्बि जांप्लकअTांख्रि ब्रांब्र गष cबौवश्रब्र चांख्न जानिन्छ cवन-जांब cनश् जांउtनब्र cन निषtब बूष गयूजब्र काटइ थे बढ़ गां#ांत्रांब्र*ि atकबांtब्र शूरक बांद्र । निबदब्रड पडू अकेवि कडिनूब१-चक्रण गांजनांनांtबब्र 4कल्ले *क७ गां#ानांद्र बकिब्रांव गां#ात्राप्त्वब्र जडडूड करवृश्निक्

  • रेषांब cब्रांप्वब अंशाणग्न गचरक 4क जांप्णांध्वा कब्र दांकू ॥•••

●tडमैं★iडैब नांदांtछूब ॐiटङ्ग इंtडेब्र जब्रांसांब &थांब s०le० वर्नब्र जांtन शनिद्विब्रांन बूकब्र नब्र अनिविब्रांन नजि७ यषत्र जॉर्टांत्रांब इच्न क८ब्रब-एछङ्गन्ब्र छषन cषटक ●धषञ श्रृंडांचौब्र बप्श cब्रांप्न थरचकetणां शा?ांभांबरे हरब्रहिण : उrव जांशृनिब्रांगू प्लेबांन्ध्नब्र अशांत्रांबड़े नकtनब्र cळ्रग्न नवृकिणांजौ वtण गबिठिंड इदब्रक्ष्णि । कनडेrांनाहेब वथन बाहेछTांनद्रिान् वा कबडेrांकैिनांगटन छैiब्र ब्रांछषांनौ ऍf*रग्र निtग्न शांन् ठषन७ cनथोप्न चानक बढ़ वङ्ग *ां#ांनांब्र यठिछेिङ इ८ग्रहिण-वक अशांनाटद्र यांब इजक णांव्वांछ बड़े हिज-टtव शूब३ शून: अग्निकांप्ह कनडेifछेदनांनzजब्र &थांग्र ९१;२v5 अंशांश्रांtब्रब्र बरबक कठिहें ह'ऋग्नहिज ! छiब्रwiब রোমরাজ্য ভেঙে গেলেও পোপের বড় বড় পাঠাগার স্বীপৰ क८ब्रक्विट्जन७द२ नtथांब्रtर्णब्र गांt#ब्र शक्षिt ७ श्वप्नवल क"टब्र निदब्रक्केि८णब ।। थांब्रदौtग्नब्रां७ जौकएकब्र भड श्रृंखक म१ब्रक८१ ७ नश्ञ८ह गtछड़े हिण । हांब्र१ चलूब्रनिन ७ ठांब cझरनप्नद्र ब्रrछस् ननरब्र वांत्रमांक, वांप्नांब्र, करéांछl थझछि बांनां हांप्न जहांलग्न हॉनिछ ह८ब्रझिलकॉडेट्ब्र! मझ्ब्र सिंथTांउ निकां८कटा इ'८ग्न ऍt#fझल-बांब्र cनथांनकांब्र कठिमिन बश्नैग्नप्लग्न शां?ांत्रां८ब्र यांद्र cनछ लक चांगांब नूखक ● পখিপত্রাদি সংগৃহীত হয়েছিদ্ৰ—শেষে তুর্কদের দ্বারা বিজড়িত হবার পরও তারা আবার নতুন নতুন গ্রন্থালয় পুনঃপ্রতিষ্ঠা क"tब्रहिएजब । बैौद्वैग्न म*म नंथकौष्ठ थांब्रवtषङ्ग जर्षिकांबड्रह (স্পেনরাজ্য) ইয়োরোপের মধ্যে অন্ততম শিক্ষাকেজরুপে পরিগণিত হয়ে উঠেছিল—সেখানে জলহাকিম নামে একজন জারীর পণ্ডিতের চেষ্টায় ও স্বত্বে কর্ডোভার গ্রন্থালয়ে প্রায় ৬৭ লক্ষ পুস্তকাদি সংগৃহীত इ*८छणि । এ সমস্ত ত গেল সেকালের পুরণে কৰা ।---সম্প্রতি আমেরিকার রাজধানী ওয়াশিংটন নগরে নতুন একটি পাঠাগার প্রতিষ্ঠিত হয়েছে—সেখানে এক কোটীরও বেশ বই রাখার বঙ্গোৰত জাছে ७स९ प्रब्रकांब्र इ'zण जांब्र७ cद*ी ब्रांथांब दावहाँ कब्र बांध । cनथानकांब अंशांशक्रप्नब कि कम्ब्र दहे मांछांटङ ७ ठांजिकांफूड कब्रटङ इग्न, 4ङ्ग छcछ कठेिन •ब्रोक निद्रङ हब्र-जांब्र छांटनब्ररें शक्षिांब छछ कङकeणि भांनिक श्रृंबिकt viरीश्व बtब्र कब्रां हृ८ब्रटइ t००० ठक*नl ७ बांजच चांछ७ लांब्रrछब्र ऋख्रिष्ठ खन् बन् ८कांप्ब कूd ejzङ-णिनि यsजप्नब यून cर्षाकावब cफडेांद्र करणहे अबारे ভারতের সর্বপ্রধান শিক্ষাকেত্র বলে পরিগণিত হয়েছিল--এই नांजनां८ठहे की श्ब्रिांन. ह♚नि१, हिग्नांननांश् यकृद्धि asबिङ छब्रिजाछरकब्र चिंकांशॉड क८ब्र - बि८छ८मब्र कूडोर्थ बटन कzब्रहिजअरु९ यांनांब्र नभब्र कूक्लिdछे cषांफ्रॉब्र *िitá c२ांकांझे क्tिब्र अथांबकांब्र गद शूनिशज निरग्न बांब्र-जांबू अझैछप्लांटे 4षन बांना श्रृंखिtठब्र चांब्रां चनूबिड हtब्र उॉब्रप्ठब cगोब्रध्वब कषा यष्ठांब कtब्र cषकांtव्ह । बांणव्यांब्र “ब्रटङ्गांनषि" बां८व अक$1 नब्रडल तिनिडे aथांनाटक अछ गूंषि हिण cष खांबद्दछब्र योझैौन चिंच ७ गणफां गचएक अकब्र कीड़ेिं ८ष८क cवड-किरू छूatषन्न विषब्र cष कछक७८ण! cचौकtषषैौ नब्राॉर्नी जङ बफ़ अशांभांब्रछेiरक अधेिबांदए बड़े क८ब्र ८षम्र ॥ ७iबनब्र क्बियनैण ७ ७षखनूबीब्र गां★ांगांब विचक्थिठ दछ ७d-cनषोरन श्न्यूि७ cर्वाक छैछद्र वर्षं गचचौब नूंषिरे बांधा इङ--