পাতা:প্রবাসী (ঊনত্রিংশ ভাগ, দ্বিতীয় খণ্ড).djvu/৭৩৪

উইকিসংকলন থেকে
পরিভ্রমণে ঝাঁপ দিন অনুসন্ধানে ঝাঁপ দিন
এই পাতাটির মুদ্রণ সংশোধন করা প্রয়োজন।


eন সংখ্যা ] কষ্টিপাখর-বাঙ্গালার বৌদ্ধ সমাজ لاسيون छाहाटणश्च सिङ्गरक खोज गवारबtछन। कaिtणन ॥ खांहाइड usণত वदनरब्रह ऋषीं छtदांटकञ्च éवल्लॉब्र ●क &वकोब्र राख कुड़ेब्रां जानिण,००० हेहांश छैनद्र जांबाब महोबोक्नब बूकारांव गांबद्रन धराशा है इॉन बी गां*ब्र, चबांब इवांब्र चाअङ्ग कब्रिज ●लए बिषिणांद्र इशच्चব্যাকরণ মিথিলায় স্থান না পাটনা ঘশোর, খুলনা ও ২৪পরগণা जाबा कब्रिज्ञ । cगेष शाकद्रनखणि जूख इ*छ cजन । भूक:गप्रब बहन६षाक छैौकांबाब्र थांtछन, बक छब्रड भ'ब्रक हाछाँ नबई बाबाजी आोञ्चण ॥ ७कछन इोक्ल छूणtब्रह नकांकtब्रसजेि नव वाघांनौ बांकन ॥००० जडिवांटमब्र शांणांब किरू जांड ●क ब्रकभ । नष्कृङ जडिवांन ठिन जिनिव जड़ेब्र,-गर्वTांब्र, बाबांर्ष ● जिछ । गर्दाiब्र भांप्न, वक भां:बन्न जटनक नक ॥ नांबांर्ष शांरब, 4क अहमब्र माब जर्ष । जित्र नरम ८कान् नएलब cकान् जित्र । बद्रब्रsि, शांकि, कांडा, कांजिबान, जबब aङ्कडि बटनाक३ ॐहांच्च 4क वरू5ि ज३८१ब्र बड़े जिटिब्रां वांन ॥ किड cशैक बशब मिश्र बरे fध्न िजश्नं जड़ेब्रां३ ‘बांबनित्रावृलानन' ●ब६ ‘बिकां७' बांध्ष ●कषानि नब्रज ७ इवद्र नूडक cनtषन : আগেকার সব পুণি কণা হইয়। ৰায় ••• अभप्तब्र श्रीब्र ‘विश्व थकां** बछिषाब cर्शौtछज्ञ cजथ1; छैहाँ किरू बांनांर्ष तक भांज ---अइकांब्र (बाद इग्न, रुग्छाजौ छिरजम ॥ cकन नl, खैiरॉब्र सबैa ●क ब६१ अitङ्ग बांनांरबङ्ग छछ । जडिवांप्न बांबांtनब्र কথা এই প্রথম। বটগানি লেখা ১১১১ খ্ৰীঃ আৰো । थांब अकबन cशैक जडिवानकाद्र शूक्षांख्ष tनर ; छिनेि जबtब्रब्र পরিশিষ্ট লিখেন ••• éांश्ॉब बांबe sकथॉनिं बलिक्षांब बांtइ, ए5iहांब्र नांव *हांबांबलौ । cमश्रांप्न षष्ठ चथsशिङ चंद्म बांts, हांब्रांस्कौ:ङ छा३ॉब्र बांtन cषडग्न जांcझ् । ॐiशाब्र अङषावि बाकब्रन जांप्इ ; बांभ ‘छावावृखि' । जहेiषाग्निौब्र श्रृंखलणि इङ्गेtछ चङ्ग ७ tबक्कि अश्नं बड6न कब्रिग्ना बांह का८ङ, ७ोहाब्रs cबौकथएछ बोथा। cणाएक क्रण, जन्मेनम्नब्र चाखाग्न ●झे बड़े टिनेि णिविग्नांझिtजन । ॐांशंद्र थांब्र ●रू कॉर्ष बांtइ-cनप्ले शांनांन इब्बद्ध कब्रl ॥ जन्नाछ cनtण नशङ्कड बांनीtबब्र रुकेaब्र प्रब्रकांब्र इग्न बी : किख बांछालांग्न जांत्रज्ञा अछाइ *ब" ७ वगैौञ्च “छ,” 4३ 8छtब्रब्र cछष कfstङ wifो बा ! अढाइ “क” ७ रुषोझ “न्त'4ञ्च प्लेक्रोब्लेन-cछन করিতে পারি না। মূর্ধণ্য “গ” ও মধ্য “গ”-কারের উচ্চারণ-ভেদ कब्रिाउ गाब्रि ब1। डिबल्ले “न, ब, न” ७ जाभब्राँ अक३ उiहष ऍक्राब्र१ कब्रि ।। 4 छछ शानांटन बांभाटाङ्ग जानक cत्रांनभांग रुद्र । ठिनि अहे गर बांबांग्नब बादइ कब्रिग्न निघ्नlभिप्रारश्न अरt cष मकन नप्लग्न इ* छङत्र बांबांब ह*८ङ नोटब्र, छाशांब्र७ अकछे छांजिक कबिझl fगङ्गादइन।••• इकट्टनांtइ जावटकरै बड़े ८णtषब, किड़ थांtत्र cगहे गिधण बांtनंब्र “ब्वाएज'३ छनिछ। श्रद्दद्र “बुउद्रङ्गोरूब' झजिुङtछ। फोहोत्र भद्र ‘इन्चानs aौ' tतछ cनागाजका:नद्र नूड भक्रानाप्नद्र ८णषां ॥ cशैकtवब्र *कचीनि पूं पड़ चtबद्ध इtवद्र बड़े हिज ; cजषक-नृङ्गाकब्र नाडि । *नेि भिक्बनॆन रिहांtब्रह शाब्रणसिड aिrजब 4गर अकबन बनिक डौफ़्यूकि टेनब्राब्रिक क्विट्जन। जर्षिक वणिrछ कि, डेवि शैणकब्र बैजाट्व छद्र जांब दौगशब aखान डिक्रकइनrत 4षमe विडौद्र दूषtषद शजिद्र नूछा गांडेब्रा थांtङन । किड ●छ बढ़ cद ब्रङ्गीकब्र*ोस्,ि ठांशद्र७ इष्वङ्ग करें किण बl-gजांश vॉरेंण ॥ - ھ سو اrا छांवह रहि <शैख ब हन-न हलेसाब गडावनl जषिक, उrष cशैष:बब जनड़ाrत्वब्र परे नर cनान गाश्ब्राप्इ ॥“ छाब्रलोरञ्च जर्षी९ जखिटक cशैख गeिrद्धब्र पूंक केंद्भडि कब्रेिब्रfअcजव । ॐiहांटक्ङ्ग नक कहे जाण गोंडेब्रटिछ, किड ॐ नकल कॐaब्र eéब aनिशाब्र मामा छावांब cवनिtङ गाखal वास्त । बूकक्ष जाँवttषम्र औभांश्णकzक्छ छांङ्ग १!s♚ थबां५ जात्रिt १अ ॥ fझड आरम BBBS DDDDS DDDSLLg DBDDDD DDD DDD LLLLL DDLSS TBBBS DDDDS BBBD D DD S S LDDDDD BBBB BLLLLSS काब्रन : छाहiब्र अिग्न क्छिनtण श्रृंलएक७ यथाtणब्र छािडे इझेदछ शोग cक्न। ठबन ८गैरुल क्लुङ्गे भाज यबाक् मैाझाब्र-थठाक जात्व चकृयान । जांभांप्नब छान्नद्रमथानि नानबtबब जमcद्र वl ठाहाब একটু পরে লেখা হয় । ইহারাও ৪টি প্রধাণ মালিলেন।••• बाधोप्क्ब (नौठबरब टिमझण बन्नुभान चौकीब्र काबब.-(०) नूलंब६ बर्षt९ कोब्रन हडे८ङ कावा, {•) cनष १९ अर्थीर कtषा लडे८ष्ठ BBB BDD D BBBCD DS gggDDDBB BDDD BBDS चोर्थीकूबांब e wiच्चोर्षाकूब*न । डेहांश्च भtषा नब्रtर्षाकूथाप्यब्र छछदे खश्वप्लवग्न विश्iा हम्न ; खुम्नस्त्र बधf९ গদলোaিমৃন্ম ses बांङ्ग श्रृंडzकङ्ग tञश छोtन शिशिजांग्र अब्रलबबी ब्रांश्रक ऑोटनं भtत्रप्लाभावाiब्र जायांप्नब छांब्रनाज्ञ घू Ba Fाब्रिeि यथाप्नब छणब्र छाब्रिथावि खिाश्र१ि ब्रऽन कछन। काभिनिद्र गावाब्रन याथ ‘टस्छिञ्चाश्र१ि' । बड़े शूरक ब्रहब ब गहनtबद्ध छंदकश्च-“यक७°ांद७ छनखिडौर्षशl,” अरी १ cबौकशिtर्भब यऽ७ बउ श्र७न कब्रl ॥ ऋऋतानाशात्प्रब्र बड़े थाभाप्रब cऋन भूल बजिष्ठा विशाङ । * पूणइ बहनश्षाक झैँ क्लो श्°ब्राप्छ। अई भकण झैंकाब्र अल्ला:बद्र मान नtछ cशौक छाँग्ननाञ्च वाथोण, बअन कि, छtब्रड९ई हईtड७ डिtब्राहिड इड़ेब्राह । cयौक छर्नन यथभ हॐrउल्ले क्रनेिकवांनी ॥ ७धनकांब्र tनग्नांब्रिtरूब्राँ वtणन, छांन जिक्र१शाङ्ग-4क कt१ ६९णसेि, हिउँौब्र क्रtन किठि ७ फूडौद्र कtन क्षश्ण थांड इग्न । cशैtकब्र वाणन, $हाब्र उं९नखि ७ क्षश्न *क क्रtनड़े हछ, gहांद्र शिठि बांs । छै'शब्रl इ३ गडा भानन-sक गार्ड गडा, थाइ बक भब्रभावीनठा। मार्७ गङ] गईंौक कब्रिtङ कब्रिtङ cनथ शाह, छेहांब यून नॉरे, छैह बांब्रl। थांब्र७ शब्लौक कfātड कब्रिtछ tजश्री शां★ tभ, cन भांग्रांस नई । *३ मांथात्रिकtनब्र cतष विsांब्र। कॆशांब नांश जnf३लैिठ नथिईनांश् ॥ ७शरक्त शबशार्षनठी वव्रेषांडू। शर्दशाङ्ग जबिर्सक्लबौग्न, छंहाड़ थांब्र *क माब पूछ। नूछ जडग्वांग बग्न, छांदवानख बद्र :ॐश অনির্বাচ্য ●कल्ले चक्कण-शाह बांङ बtनब्र जtनांऽब्र। ॐश थtाह्छ. बरछछ, चहिज, वृछ, गांब, जशरि, जक्निानि,-4श् नूच४iब नाश३ वज। देश छांव बग्न, थलांब बछ, खांबांछात मग्न, जsiबाछांक छाखांडाव७बन्न । शांtन बांबब्बी छेह थांब्र* कब्रिहङ शाछि ब1 जथा छंहां cष चांtरू, छांशंe अचौडांइ कaिtङ गोब्रि न । अङ cद ऋछ गार्जीविक अछcर्शक्कट्नद्र मरथा छिण, फोहt इ३ कि शोध्ठ हिन्यूग आङ्गमन कब्रिध्ना थ७व कaिtड़ asडे व विप्राप्इन। अक क्टिक थड़वाध्ॉर्षी ७ ॐांशद्र भवत्र खङ्ग cनौकभाषांsापै। अ* नवच ●जिtक थांबूनां९ कड़ेिब्रॉ जां*बंizर्षद्व भएछ यsाब्र खब्रिग्नtरकन ॥००० স্বালা ৰাৱণেশকিৰ এৱগে শেষার্থের সঙ্গে যুদ্ধ কৰে nto i štetut “cuts fin costa cats, costus wifw fit sa .cनांछा" कtबन बारे। *ांशांब छांद्र ७ सप्तरिक, <रे इईझेि गर्ननद्र