পাতা:বিশ্বকোষ একাদশ খণ্ড.djvu/৪৩৬

উইকিসংকলন থেকে
পরিভ্রমণে ঝাঁপ দিন অনুসন্ধানে ঝাঁপ দিন
এই পাতাটির মুদ্রণ সংশোধন করা প্রয়োজন।


'नििसप डिस्नङ्क्कि अिस्तुक१. . . . ના વૃક્ષ્યાં Rohઃ શોષણ માં - ধাৰণপে শর্মাত্রে க் -ல் . “ به ***** SMBBgTBB DDBS gBBtt SS AAAAAA YBBkS DDDS BBSBBS DDDBB SBBBBS BBBBBB BBBD DD DBDD BB BBBB DDS १यू खि छ क्क, अिहे किनिहेभोधtत्राक्रगङ्ग झून r ७३ ङिम भाँडू अॅलमिड.ब्रॉर्किtण.८**** शॉदि इंक बl l.५lहैं थाकूबtब्रग्न ४षयबाहै जैकब ८हडू * { tअर्थां★♚ बांडूब ब्रिपद्रxर्भग्रं ● बांबू*च अडेवा ? ] u३ बांडूअत्र वज्रदक cirडाइकड बहिक नचकं ? किरू dहे किरनंग्न थtथा थर्षम बांशत्र.श्रीशियम-३ब, ठमङ्BHHDD BBD DHZDD YZB KDD DDHH KHS i AAAAA श्थप्ड जिबिउ चारश्,-ब्रात्र (ब्रसाद किङ्ग ), भोक ( अर्थानि ?ार्षांनं ); संज* अपथौं दृङअs, tअषt &ष१ ॐककॉब्रिच, त्रिद्ध ¢है***४tर्ण रुिंडस इंहैंट्री अभिकेéी ६fद्री भंग्निौब्रिक करी भन्*ार्मम फग्निब्री शांtक ! *ईौंrä निंtद्धम्न क्रम ¥हैtण अग्निप्ले केदछ भनैं झग्रे ॥ हैहtठ अँग्रैौंद्र थछाँईौम इंहैग्नां नरफ़ । cष जकण बख निख्वईक, cनहै जकल बख गवन कत्णि निख्। यश्वबिख् श् । नििख शूकि श्रेष्ण नीरङ्ग नैडवर्ण जांछ, नरडां”, नै७ण अरदा जखिणौष, मिमांब्र जब्रछ, यणशनि, भूई, हेलिप्छात्रै श्र्तग७), निष्ठ, भूज ख शत्रु नैोउक्ण श्हेब्र থাকে । এইঞ্জপ অবস্থার পিত্তনাশক জবা লেবনীয় । त्रिद्ध भघ्नौtग्नग्न #150ी शंtभ ऍोष्क । शर्थ1-१ङ्गे९ £ौझां, झर्मग्न, घृ,ि एक शब९ श्रोभन्नेरब्रन्न भथाश्वनि । cबभन ध्ठ श्षी ७ बांबू, कब्र१, भांकर्ष१ ७ नक्षीणमक्लिइोषांब्रl uहे छ१९ब्रन् বিয়াই দেহকে ধারণ করিয়া থাকে, সেইরূপ বায়ু, পিত্ত ও কক্ষ Gागिश्ररणब्र ८नश्रक शब्रस कब्रिब थkक । ‘यक्ष्म cनथो शास्नेक cष, cनाइ नििखोडिझिस्व, अछ ८कांन अग्नि अॉरह कि भाँ पाँ निखहे अधेि । ईश८ठ BBDD DDBBS BB DBBB BBB DHH BD tथरोग्रं अधिव्र छैनंजकिं इग्न नां । निद्ध बांtअंद्र श्रृंनॉर्थ: 'प्रश्न ७ *ब्रिश्नांक बिं६ट्ध भिड़ई अभिधैष्ठ १ांकिग्रl अधिग्र छांच्च कॉर्षी कtब्र, हेहांरकहे अखब्रभि करश् । कांब्र१, ७ोथयठs cमरश् अभिग्न ? भांना हहरण कांशष्फ निख बूदि शा, ५हेक* जवाहे cगक्न कब्र भौ**4दर जचि अठिनब्रवृकि इश्रण नैठन जिन्ना चाब्राहे डाशक "প্রতিকায় খনিতে হয় "দ্বিতীয়তঃ জাগমাদিতে কথিত জছে BBS BBB GGGD DD BB BBB BBD DDDD DS HtHHHt tD DHBBBB BB BBB BB BB BBBS

  • أيّ غاية "نج : به من يء بيي

नीहरू हङ्गतििष आशब्र गब्रिथाक कटु अतः कि धन्द्रजी भद्र 5.4 པ་“སྐྱོར་ཤིaར་ +f* --- - ήξήs ***জাৰামিছ 皋化罩 ดifสथांक ዻዻ 1. नूर्ध्नौष •ङ्कटिक नस्यत्र ५थक् रूरङ्ग, छोक्ष अिधज्राथ श्त्र म नछ । ४ किच्च निर्ुदै á गकण-कवी *श्ािंशः अशtधी कब्रिध्न थांरक, देश दिशैश्च श्रेशरए** गिटै शप्न थालिबारे * अधिबिrा चांब्र रनप्र णनच छछैौ निचइttन* क्रिधांग्रं गांशषा

  • कt॥ १ cनई श्रृंक ● थांबांचtब्रध्नभषाश्डि निtख अtष्ठंक मेंॉरब

जद्धिं अभिईॉन क८ ।' बेङ्गद,"*"झैौंह थtär c१ मृिद्ध आरंहिष्ठ S DDDS LDDDDD DZD DD DD S DD LDDDD DDDS १.अङ्कङ. व्रगएक कब4 कएन । cश्.थिश झर्षव्रइएम भtदिङ, 零领杯夺 नाथकड़ि कर, ५३ आतंक्षकांचि जाँifहे भरनग्न नकल अडिगषिभाषि७ श्धी ‘cर गिस भूडेिरांप्न जहिहैिड, उtशारू SBBHH SBBB S BDSYS DBBHHD DDDDD जनप्रज्ञि छन् अर्थक अिछिविष शुरी७ श्छ । ८रु निङ फरक अरंहिउं, ७शों #र्षि बांधक अभि । फणभर्कन, अदशांझ्न, अॉtण-म थङ्घडि किंद्र बांब्रl cय नक# cप्रश् ¢ड़कि झबf अंग्रेौtब्र णिर्श्व इंड, dहै गिडचांजl cन हे नकन अtवाब्र श्रृंब्रिभाँदै ख . भ८हक्क इfब्रॉम्र éeंकt* श्छ.१. निल छैौक७१७ भूठिभकविभि8, नैौण अथवा नैौठब4 uबर ठग्नण । निख ठेक श्रण कक्वेब्रनविनिटे ७यः दिनभ शहेरण অঙ্গরসবিশিষ্ট হয় । - - পিণ্ড প্রফোপের “ছেছু—ক্রোধ, শোক, চিত্ত, উপবাস, अधिनार, ४मधून, ७शश्रमम अथवा फफूं, भद्र, णदण, डौक्र, फेशः, शयू, दिनांशै, ठिनtफण, निनांक, कूणथ, मर्ष”, भगिनालांकि, c१iां५l, म६छ, छौंण १! cनबमांश्न, गर्षि, ठक मथिमज़, शम, कैबि, शब४६ ८कनकन प्रबॉब विकृङि ७ भद्रबन विलिडेशन, cषाण ७व< cत्रोरखब्र छेखां° uहे नकल चांग्रt निख ७üकूनिठ श्ब्र । क्रिचंबड* छेक क्विब्रॉ कब्रिटल या फेश*DDD DDB BDHBBBS DBBBB D DBBBDDDBB BDD फूल अदा गग्निशांक श्हेबांद्र नमग्न गिरखन थरका” रुद्र । পিভের প্রকোপ হইলেই য়ুক্ত কুপিত হয়। পিত্ত কুপিত श्हेप्ण श्रीप्प्रङ्ग फेर्कङ, भकामनार ५१९ धूःधागोब्र श् । { মুঞ্জত পুৰস্থা ২১ ক্ষঃ । ) छांरथकाँश्व थcछ,-निtछब्र बझ*ी,- भिड, फेषः, अय, #ौड ७ बैौबक्{ अर्थी<- मिब्रांमथिश्ड. भैपछव#, जॉअनिख बैौलब*, রজোগুণাত্মক, সারক, কটুরস, লক্ষু, জিঞ্চ এবং জৰ্মৰপাক । अंग्रैौब्र ब८षा ऋांनक्रिग्नंtव अक्शांम *थsथ१ छ९ठ९ जहज ब्र जिब्राप्रुडू निtखन्न *ाहणे चजब गत्ल रश्चात्रु । शशी-नाककनिद्ध अभ्रंशां*८ग्न, ब्रश्चकच्छि वङ्ग९झैौहाँटल, जtथक छ्नरश्रे, अt८णकक ¢प्रखन्नरब्र ७ झॉजक नपर्वचनैौब्रहिछ छाई बखहिछ ।