পাতা:বিশ্বকোষ চতুর্দশ খণ্ড.djvu/২৯৩

উইকিসংকলন থেকে
পরিভ্রমণে ঝাঁপ দিন অনুসন্ধানে ঝাঁপ দিন
এই পাতাটির মুদ্রণ সংশোধন করা প্রয়োজন।


ब्रालाब eऔं . .श्चमांशः छिनि क्रूडेबिक्विट्टक, कझेहtज * दि#ांबन बद्रङ्गन । थुढेत्रिप्टक फ्रेन्णाबक्रर्श्व झोलिक रूडे फ्रेंरच्न सिहे छाझांरब्रव्र अक्षांन केहकई १ ५३ अञ्च चिखि संब w०. पृौिघूमनमाहौटक नहमखदान «यब्रष कछन । हिनि क्रिभष णtएगैो, रुणवांबू, अचंद्रमूकि.७ चष्टेरन् श्रृंग्रह हिष्णन । डिमि *द्ध* **ावलौ८ङ छूनिफ इश्राल, क्लर्छाब्रड किल्लक sअविश्रृंखछ aथकृछि चगद्र छ१.*ाशंद्र बोत्रनाक कणहिष्ठ चहर्न्निष्क्tिः। - - মহম্মদ ৩য়, তুর্কম্বিগের জনৈক লম্বাই। পিঙ্গার (৩ খ্রয়াদে) মৃত্যুর পর, তিনি ১৫৯৫ কনস্তান্তিনোপলের সিংহাসনে অভিक्लि इम? गिtदामृtब जदि*िऊ बश्ब्राहे क्लिनि श्रौद्ध >> बम . बोफोक्ल ७ो५ ग९शब्ब ७दर शंईवउँो ७० बम दिमाफारिक अण • भधकद्विशा रीइ ब्रांबनव कप्लेकध्रुप कष्त्रम,। किमि वर्ष१ नबाई २छ बङ्गन्कॉप्नब विक्रप्क बूकडांजा मब्रिव्रांछ्रिज्ञन । शरत्र द्रौब्राथहरू *ब्रांबद्र कब्रिकtब्र अtभएग:फिमि riद्ध ३णक्र हेक्ड नश्व चअगब श्न। यहे ग्रुहरु मज्ञाप्लेबाजा बाब्रिबिगिद्दान् द्रशांज cषां ब्र यछिद्रश्दिछां ऋब्रिइॉश्नि । . दूरक छद्रशांछ नीं DDBBS DDDDBSBBBBSBDD DDD BBB BBBBB दि*trड़ हद्देब्रॉझेिंडा । ... - १. शत्री श्रड यछाङ्गख् श्रेश्। डिनि बेवर्लीश्प्५ मख् हहेइ vi८फ़्म । «qहे.णभ८ब्र अषिचक्रश्नं जमब्र क्रिनि अखtशूद्रब्र बाकिहा .८दश्नवनिप्शइ णश्छि औफ़itकोङ्कक ब्रङ १iकिरङन । २७०8 शृढेप्सिद्म भशांक्षाद्यैश्छि ॐीश्tद्म ध्छूा इव ।। ८षiश्रणनयाई अग्नबाणव छाब्रडछूट्य, cदङ्ग” cमार्क७०थडाप्न ऐम्बाब-पब्रिजांरब्र दक"ब्रिकब्र रहेबांहिरणम, छअ५ फेtणcबद्ध मश्फि भश्विन cथोक्ला छभप्ठ हेन्णाम ऋषीघ्र दिखम्ननडॉक्t छेउकौन कब्रिtछ बङ्गवान् श्न । মহম্মদ ৪র্থ, ভূর্কের জনৈক সম্রাটু, ইব্রাহিমের পুত্র। ১৬৪৯ इडेान्त डिनि कनछाडिप्नागहणद्र निशनम्न चम्ब्रिाश्१ क८ङ्गन} हेग्गांभषई ● बूगणमाब-ब्रांबाक्षिांéद्रइ जछ छिनि डिनिर्नीद्र थांछिद्र विक्रएक दूकषाब *क:इन । थांइ ९ गच देनङरके निश्ड कब्रिञ्च कश्विद्र चषिकाङ्गगूर्तक cगाण७ क्रॉकथ१कब्रिजांश्tिगम । कूक छैशंद्र बडणांछ दछ । क्रूि *ाशय्क उचाइ मरत्रशैव श्रांकनविक् िशं★नरबिाङ इह लारे। नइचणइ cषण७द्राब 6गाप्नकि cझोप्क्लनििश्चैत्र कूक छैब्राप्क लग्रविड़ “कविद्र बबाबा छेकंद्र क्रडक्लमः *** श्रृंग्रेप्च करात कई क्षे ।

ཧཱ་ཤྲཱི་

[ મિશ્ર ] यश्यक, कीगक इक्णतन प्लेकाह्वाइ। ऐता.ुकिु क्बाक्लेन आद्विहरू। दिकञा भव.ुलाबीएड. प्लेकी स्थिान श्रिगत्व । रेबि 'क्काबा बाबङ्ग अश् ज्ञछल ब्रान्५ि४ोरू , ब्रक्रीडा. अइ fदिकवा° मात्रक शृण्यकइ.,●कतन्त्रजन । बश्वन चकक्ञ, बालगञझै किठ डेम्बन डेब्र ब्रुि बकुल्क्क 'गाइड्रीगडकाद्र ब्रश्नरू छैौक कृग अददातिक प्रकिलाग्न लबिंबांग्रह\xक्षएषाक alएदैतूण cझांक ७ डांशद्र बिभन शोषn थदर मूढेtडxनवहtरहेबझइ।

  • *थाकडिज छेक “वकtदह* जांब्र७ चम्बक$ष1जाrछ। }:

আফগান। . . . . . . . . ; ०१s* श्वः श्रश्च वैशिष्याः निख1चैौ शृष्ाि लिंग्रा, किनि छैशंब्र निश्शांजञ यषिकांच्च कद्दछन.1 *१९R/** श्राच छिवि श्रै्रान्मश्च Jत्रबळकांव क्रन्निब्राहिएणन १. श्रjजज्ञांज रणडॉन cद्मप्नत्र प्रकैो ज९वईत् क्रडीझब इंवेढ़ tथान कि cषांन थशांन गांबडभ१ गइ अर्थगूर्व मद्राम बहब्रध्नक:निकल्ले थाञ्चनबर्णन ग्रुर्तत निज बल्छ शक्षत्र बज्राबि कुइल्लले शंबन ब्रएबमः। यहे.बध्नांब,९ वvब कहा झदार अचौ बरीवान श्वयथाका कथुण्यकरषदिएल १##जरू e०चज जाथवरिक्ब हूिद्रडाइक् निर्संह किङ्ख्यालश्च्ि एन । uरे नकल ब्रांच५ष्क ऋक्ष cकह *f१मह4कों★त्त्र g BBBBBDD DDS BBBS BD YZS kB ब्राजिश्च३ फेबख्श्रेज शैत्र मान हिब्र:च्हि कडिझ.करांद्र कश्चािहिएलन । ५रे चवशब.०१२* धम्काहीक्षक.मान, ब्रिप्छांभ रब। मद्वप्नद्र-कृशत्र शृहक चषकांनsएwनालन/ज . স্থৰমাস্প মীর্থ ৰিনি ইস্পন্ন ইম্পেন্নয়ন করি শিরক্ষা কম্বিয়াছিলেন, স্থযোগ পাইয়া এই সময় আৰশ্নয়ে রাজ্য জ্ঞাক্ৰयन कबिदाइ अनश्चषकब्रिएल कांनिrणन। তৎকারে.সকলেই লৰ শিৱ লিটলৰ जन्मानैौछ कब्रिrणन । .बडांचएन, चां*ब्रक. >***** [ऋच

  1. iग्रहृत्र, थांब्रॉब्लङ्ग । { चकृमल्ल £गर्थ ! ]

बश्ध्रभ ৰক্ষ, লক্ষবাদী कमूि# %ज । 游 इंभिषिच्ॉब क्रिकsअझै ब्रहेबांझिकन । नहिtत्रtन गtबरछ পলায়ন করেন। अपॉन **** रिबिबांद्र कैपद्मइ.कैौग्नौगाँ cनबइच५ बदत्रक cवप्र थइरणब्र ग्रस्त । रेनि गाह्रो छापा कसिर প্ৰবলগঞ্জখলিকেটরকসঙ্গীনে।