পাতা:বিশ্বকোষ দ্বাদশ খণ্ড.djvu/১৩১

উইকিসংকলন থেকে
পরিভ্রমণে ঝাঁপ দিন অনুসন্ধানে ঝাঁপ দিন
এই পাতাটির মুদ্রণ সংশোধন করা প্রয়োজন।


്, ു***** शिजवनिप्र७ गिडावप्रह मयि विजय । हैडि ६वदखाँर्णहूङि ননে একখাদি জ্যোডিগ্রপ্ত প্রণয়ন করেন। * ..." caালং, এৰি শিখসেনাপতি। ক্ষে কাৰণে अत्र । रेशत्र थझ्छ माम cडबत्रांव । रेशइ निखात्र बांग निशिद्राव । इनि भशब्रांज अनजिक्षनtप्रब aिब्रगीज भ्रूषागদেহের ভ্রাতুষ্পুত্র। খুশালসিং রণজিতের ८षष्ठेक्लिबांनी *न aাপ্ত হন। খুর্ণালসিংহের জল্লুমতি ভিন্ন রণজিতের সহিত कांशद्र७ cत्रष कब्रिराँब्र कश्मछि झ्नि ना । कांtबहे वथन কোন বড়লোকের রণজিতের গতি দেখা করিবার প্রয়োজন इहेड, उधनई ठिनि जर्षदांब्र भूनागनिरश्रू गरुडे कब्रिप्उन । ७हेब्रप्ण भूवागनिश् ७कजन बरु श्नौ ७ विषात्बाद्र मांश ७कअम ४५ॉन बाडि शहैद्रा *क्षिtनन । • औअप्ठं ॐश*ि भानि निरान हिण। उष श्रेंtङ डिमि ८ठअब्राभरक नि४ দরবায়ে জানাইলেন । ১৮১৬ • খৃষ্টাবে ভেজয়াম শিখধৰ্ম্ম अश्म ७ ८उँजनिश्इ नाम थाइन कप्णिन । मिश्रबाब छात्र डिनि७ क्वtब क्वरम निर्थ-शब्रवांtद्र ७कबत श्रीगाभांछ cणांक रुहेब फेप्णिन । o - •vs* श्रृंडेॉcश २०७ cगtैरङ्ग जषारिद्रनिश्प्रज शङाब्रि भद्र प्रशंब्रानै किचन नांगनिश्tक अंशांन फेबौग्न ७ ८ऊजनि:राक भषांन cननांभडि यानानैौऊ कब्रिब ब्रांजा कांगाँश्रड नात्रिtणन । किढ़ गांणनिश्र स cडयनिश्रश्ब्र छैणब्र थांणना*शश्च विद्मखo fष्ण । नांम! कtब्र:१ ८णरै विद्मञ्जिष्ठtश् छ्षभः। बकष्ण श्रेष्ठ नात्रिग। 4हे नवत्र पांगनाएननानैौरtर्नब्र कबडां७ बस् बाड़िशा डेब्रिांश्नि । नरून ब्रांबभूक्षरे डाशक्षिक ख्द्र कब्रिठ ।। ७रे कांग्नान ८ठछनिश् भागनाटैनtछद्र नंब्रांझभ' ५€ कब्रिदांब्र जष्ठ विशिषरउ ८ष्ठहै कब्रिटङ गाञिtणन । गाननिश्७ ठांशcड cयाश्न विष्णन । डैशिबू हिब्र कब्रिह्णन ८य दृीभऐनछ ठिङ्ग पालनार्टेगङ८रू विनिङ कब्रिएल 'ोप्द्र कांशत्र नांशा ? उँीशब्र प्रब्रदांप्ब्र यक्रांद्र कब्रिtणनcर, दूत्रै*टेनिक भंडक नांद्र' इहे ब्रां *िथब्रांछा जाङ्गभ१ कब्रिtङ जानि८डाकू ।। ७क्र* श्tन उँीशएमब्रख वृषॆीन ब्रांबा चांजमण कब्रt ऐछेिउ श्ब्रांtझ्। ७कविब श्ब्रबांtद्र यथान ग्रंथांन नि१ cषांक्षांश्र:भद्र नभएक्र cब७ब्रांन नैौमनांधू क4कथौन त्रिधा नख गा? कविव वानरेनन, “बाड़इबित्र ब्रकब्र बछ ५षन.नरूप्नबरे भद्ध शांब्रन कब्रां ऊँछिष्ठ । मशंब्रागैब्र' हेहां ब्राँब जांननिश्रु खेशैब ७ ८ठबनिश्र अथान cननांगठि निषूङ श्येन ।” স্বদেশান্থাগ খাবাগৈত মাতৃভূমির আসয় রিপন্থ গুলির वल्णरे अम्बबिज्ररेझ *tगन ! ५ कबछ बाबा नागः •, नौव्र। निस्रंररू फेर्दीब५ इण्थनििश्क अर्रा पनिश अश्म कत्रूि £कह अभिखि कड़ेिन मां । मैौछांभ* pजबनि६ए uपंन भनिनां. *नtछद्र कईश् नाईब ठांशटश्ध काश्न गांवरन थंबूड शहैtगन । অকারণে এখন শিখৰে টলু। যেখানে বেখানে খালা tनरछद्र नश्ङि बुधैौ* टेनtछब नश्षर्ष शरेब्राहिन, cगरैषttनरे छूईठि cठछनिश्र क्षिागराउकडी कब्रिाङ कर्ग कtड़न भाहे । किड़ ब्रत्याग्रख् निषहेनछ किङ्कप्ङरे झाक्रण काब्र मारे । चां★नांप्नद्र नátब्रज कूपेनैौद्धिtड दिबफिङ श्रेबांस डाइब्रिा cवक्र? शैौब्राह थकां* कब्रिध्नां গিছে,তাই সক্তিশয় প্রশংল cरषांtन हैं:ब्रांरथग्न किङ्कमांड cउजनिष्प्रब्र' विधानषांङकांश cगहेषांtनरे ३श्ब्रांब थकृउि ब्रखनांफ कब्रिब्राँ अब्रांडर्जन कड़ेिब्रांrहन । ८ध भिtब्रांज महtब्रग्न शूरु निषरेनछ। गन्नूक्रिप्न भब्राविड श्व, प्रु थिोड सूरक ३५ब्रांज cगनांनाइकभ१ चररएष मशनचाप्न विडूविफ हऐबांहिरणम, cनहे भूझ cर्कषण ४ारे शबूख cउछनिशएश्ब्र विचांनषडिलांब cनव श्रेब्राझ्नि । cगरे पूर६ cउजनिtइ विtभडिসছল পদাতি ও পঞ্চ সহস্ৰ অশ্বারোহী সহ উপস্থিত ছিলেন। ठिनि नयूcर्ष जाननिथ्रब ६नछश्रt"ब्र *ब्रांछद्र ७ ब्रन मर्णन कंब्रिहणन । डिनि नब्रिथांख ७ निक्रशांत्र -वृन्नै* रेनछत्रप्शंद्र जदहाँe दिगक्र१ जवश्रेष्ठ हिानन । उँiशंद्र टेनछ*१ चूक कदिवांद्र बछ जकtगहे फेtखबिठ रहेबांहिण, क्रूि कांभूकब ८ङबनिश् विश्वागषांछकठांगूर्तक भां★नांद्र *नछश्रृंगएक छूनांश्ञा नङझनांtब्र क्ब्रिारेइ भांनिtणन । ठांहांtळ उँहाँब्र गङअंt*ब्र थांzवं जांधांठ गांगिंब्रांझिण । ८षटर फॉरीब ८ठजनिरtश्ब्र विधानषांठरूङा दूक्षिध्ठ गाब्रिब्रा कठहे जश्छ[भ कब्रिड्रांझ्निं। २५ निर्ष पूकावनात्म ८डबनिरह कॆि१ भिषि:ङ्ग निष्ा। श्रनि ८शनब्रिणिक् गश्खि गतःि(९ द्विज। गडिङ्ग अपार कब्रिाहित्गन, किड बस्ने गाग्ने उरात्र अपार चचiश् झंझब । षषंश् *ि५। *श्ळतिि:ंब्र छः॥ ८ठझ. निश् बाांकून इरेब्रा भक्लिष्णन । कषन ¢रू আসিরাপ্তাহার cयांननtशांद्र कब्रिटद, ५हे श्रां*शांब फॅांशांब्र ब्ररब निम शहैठ न',। खिनि 4क रेनबरखब्र भब्रांभर्ष गरेका निब्रां★tन थांकि वांद्र अछ ७क अडूरु इर्न निर्षt१ यदूख'शहैब्राहिtगन । रांह इफैक् ८लश मलांग्र अठि भरमांकtडे उँॉझांब्र औदब वांश्ब्रि हब्र । शभि न#ां★ ८ठ अनि१इ caछिनंtन विश्वांजधाँठकञ्च नां कऋिज्न, खाश शृंग निर ऋष्व रेडिशनजिद्र ब*** कड़िठांब । [निर्ष पूक cनष। ] cउछक्षत्र (बि) ८डबः कप्रिछि झ् । ८ख्रबाइक्लिकाङ्गक, ভেদল লিলি।