পাতা:প্রবাসী (ঊনত্রিংশ ভাগ, দ্বিতীয় খণ্ড).djvu/১৬৮

উইকিসংকলন থেকে
পরিভ্রমণে ঝাঁপ দিন অনুসন্ধানে ঝাঁপ দিন
এই পাতাটির মুদ্রণ সংশোধন করা প্রয়োজন।


১ম সংখ্যা] गौश् ७ णि Sలిసి टांब =णrर्नcबई नि न+इउ cवश् जीव, दै६ब्रtअ cशंकांटन । श्रृंहि छैनटब्रव्र नॉड़ी बांक्रt१ छ७iप्ण ब्रप्इ कण्ठ राक्षांन ? cभtü १थरब्रह ब"tण, झांष७cच्चब्र पtर्छौ ●iछैौबांरक्ब्र जांघर्च ७ बरौबांटमब्र जाँक्न छैछटाई नष्ठ जांtइ, cषtछ नां★, cछवना छ। वडून कTांनाप्न cजौन्वरीी जां८छ, ब्रन चां८इ : छैखरब्रब्रटै श्छिकांद्विष्ठ ७ यtब्रांजन ब्रांडे़न बांनांब, उiहड cवांष tकांन् १iरव ? जांटझ् ॥ *रे छडब्र थांबtर्नब इति रूदिब्र #ांकूबया ७ बांड बौब्र जान्छरी कTांलांम बख ! cण cष पहब्र*ी हिी इटिङ जांरह । cनखणि पौर्ष बजिब्रां ॐक,ख कब्रिजांब ब ।। जष७, जजिद्र नडा। जाप्न इनि इनि किड बांङ दर्शद्वब्रव्र भब्रिहांप्नांच्षण छेणtडांनी बवांकड़े और्ष इश्रणe दिन्छुङ खर्फौद्ध cवध्वं । cखोबारक्द्र जोएवं নীচে ছাপিতেছি । ब1 हिल ७ वांछांजांच्च, चांछ जबूब्रtरन ७iश३ cनांख्न वtण ब्रूहबां★ौद्य बाइँी♚♚छब्रपंकबटजबू. ( थांबब्रt७ बनि ठांडे-बिछा जळूकांबी ) डून cनश् चूर्ष थक नांठ-cशै चांटइ : चत्र जांसब्र१ बांध्र वह बांछब्र-१ ॥ বিদ্য বেণী মাই ভার, কলেজে পড়েনি, ‘काणकांब्र' (कूण छूद्र ? ) कृष्णtइ बांक्लिन्नl, जौवरबद्र बछ cकांन थांबर्न नtछूनि, “आitäब्र' छे९कर्ष-नटम क्ग्रिांहि शक्लिब्रां cठांबांब cर्नाजौद्र बळ : किरू शृंझ्कांrज नूक्तं नरकांtब्रब्र दङ ‘छांन’ ‘भन्प' बूजिচিরকাল ছিল দক্ষ । এবে মাঝে মাঝে cष व शांप्ब डांकांश्tठ asांtष क्कूि ऍनि । *कणां★ांटनङ्ग रुpनरनाङ* छांलि जां★नांtब्र #ांकू"भ1 वणिtऊ tगरण कषl छरण cषtछ, पूंबिदइ नूठन गष, भूौ कबिबांग्लब খোলা ফেলে দান কট লও ভুধি বেড়ে । cशौटज ठक् । निज हां८ठ ब्रकनञांजांब्र थांनण कथiछि बरे-नूकरब दां छांद्र cनकांटजब्र भंख्ठ नांहि छैनांव बाजांब्र : बांब्री खोरे ह्याङ •ां८म्ल, छtड़े हtग्न बांब ॥ विखजिब्र शांख्छि जॉब श्रृं7ांन-cब्रg हtण पठांब्रन्ब्र cनऎ इGग्नt छांलांब्र छtइtरश्च विबों की? नजिडांब्र । शांथां शक् िछरल, चटर्न कि शृोङांटल, भछि cब्रांशि८ष्ठ cन बांटङ्ग । কেদারায় বসে রণধী সে বড় আয়াম, “निब शका झ्द्रि ब्रांषि sणूक न नांबी cछांtषटङ णांtन नाcष'iब्र, भूरष बां३ षांत्र। चांशैनां नविनौ ?"-ठitठ यत्र छांद्रौ छांद्रौ उबू बकरनब्र ब्र'iषा देश्ब्रांप्छब्र थांबाँ 4tन गtफ़ ; 4 विशTांब्र नूलांब्र न ७iब्र चांनॆौ नटज थांब्र नाव : कब्रिटस कि मांब ? छ्गैौभांशन-%ि मांब tरांक dदेवtब्र । “cष बl थांब्र, चांग्रेौनह जरूर्वज न शांछ, ●यनंठl cनविक बांडtतौ cषप्लबl dèबिन, बिछ, cन cट बॉषां षांच्च चों★ीनांब्रि-चांबी win एव होङ इॉर्छi"- পুনশ্চ सरव उरग्न छटा ऋब्र ; कां१ ब्रांtष षांछू 约 निषिrउ ३६बांबी दूनि cऋबtनब्र इtब, ಘೀ (སཱ་ : ब्रारष गांवषांन वृeि निकटके ७ जून, विवनय चांधैौ अब, cब्रह्वष्ट जङि, cवनं, खबौ, हांस खांव, अखब्र णकज, चणि ७ष्riब्र ॰वi१ । चांबि ७ti)९ऽौ । औलपछ1 ७ बल्लौलखt कब्रिटड बकल ॥ हयो वधूब नजय पृड, भूष बूट्ज षांक, बांछ। ७३ जणछांकब्र atव : कथ1शांक श्रृंॉक, : Պիպա5= छूबछ- अवांव क्रिल शांtब्र cनई बांबी, ལ། ཝཱ་ पठांहांब्रि छ्धjiछि जांब जबांकब्र छांग्रेौ ! g #ांकूब्रब cनl, जांtत्रकांब बख cवनकांण চিঠি লিখিছেন মেধি, চুপি চুপি এলে किडू नांदे । शांन कांनौ षोtक बक शांण, পিছে থেকে পড়ে নিয়ে মরিতেছি হেসে। पठांब्रl cषtष निंतटनङ्ग : क्रिकब्रिजौ जांtइ বে সাটক্টিৰেট খানি ধনু, বুদ্ধিমতী, 4 झांक्ल : डटकरें वण, भl cषांप्वज्ञ कttइ cषरहन नूनक बूक्लेि, बूनावान् चलि । cवनै कि निषिzष ? जांद्र जबब्र व! कठ cर्नाजtबश्वान फूनि नांcइ कब्र cबॉण्, गांब्र किच छनिंबौब्र ? किन बांच्च वड et३ अ३ खाडकू, चांप्न निब्रl cणांव । परब्रब्र वांश्रिब्र पांtछ कर्डश-ठांजिक, ঠাকুমা একৰ গুলি বুৰাও তো তারে— कTछ वांटक गिद्धांज्ञांडी, वांजकबांजिक1 ॥ cक कि छांश, कि cष शाब्र, cक कांजांद्र कांछ । चां८इ नड, नबिजन, थचन्त्र यछांब्र, - cआंबांब्र cबप्रब cर्गाज नैदेखिन६ष, बीडिी# ; चांदइ षिटाछेiब्र, बांब्रtकांनं, चटकनै ब्र :-औदनोंicमहांठ बप्र निब्रांनष्प नूबी-छांरि षोडाबांड और्ष हऐप्लe वकल्ले मर्पणनँ कङ्ग१ कक्ठिां७ जांमारक छेक,ड कब्रिटङ ३ऎष्ट्व