পাতা:প্রবাসী (ঊনত্রিংশ ভাগ, দ্বিতীয় খণ্ড).djvu/৪৬২

উইকিসংকলন থেকে
পরিভ্রমণে ঝাঁপ দিন অনুসন্ধানে ঝাঁপ দিন
এই পাতাটির মুদ্রণ সংশোধন করা প্রয়োজন।


৩য় সংখ্যা] বিদেশে রামমোহন রায়ের পদাঙ্ক 8AL डिवि लेखद्र कब्रिध्णन, *बl, थांहांtब्र Éक cवांत्र विटङव वा । उरब चाहांटाब नवव्र dविष्ण चांनिद्यां कनिरछब ।। 4ष९ घेचtब्रज्ञ DDDD DD DDDD DDD DD DDDDD DDD DDDD DDD S ब्रांबानांइव ब्रांtाइ नहिङ ऎशांद्र निङ्ग-गब्रिकांtइब्र क्रि+ष चडब्लब कबूर झिण । कषन७ कषव७ बांख/ वडूब बांग्लौ चांनिश cकौछद्र 8णइ श्रृंझन कब्रिहछन बद१ बरे बहिणांटक छांकिब्र ग्रांब ब्रोहिद्दछ कजिटडब । देवि छपंत्र कन्दुं व१गरबब्र वांजिक बाब । जांब्र बरे वांजिकांब इॉरेछन्ब नांब खनिtछ छविtख बाँब निज cनरी कब्बिद्दष्टब ।। चर्णब्रांशंब cशt cइीछे कथांङ्ग क*? ग१अंह कद्विवांब चांदञ्चक नाहे । कण कथाकै जांबांह जटबद्ध छेन्द्र मैंॉक्लांडेब्रांटख बरे ८ष, ८णांधक बांखि ७ खईनच्यंकांब्रबिब्बद्दनंक हईच्च ब्रांभाजांहन ब्रांब्रटक cघ्रह ७ जन्बांव कश्लेिड ॥ थांबांब्र cवाँष हब अक्क" cधह ७ गचान थांकर्षनै भछि बांबांब विना बूकिबनिष्ठ नरर, रेशांब छै९°डि-हांब ब्रांमटबांइटबद्ध गडानिईओं । ईरडेब्र कषां टैक cव, गङारै बांबूरषङ्ग जोड्बांकांडl । ठ८ष जांब्र ५कछैt कथा वजिद्दछ इहैव ॥ कवि cब्रांछ नृ cबांरब्रज जांभांप्क कजिब्रांरहन cष, छैiहांब्र चन्नैौद्ध भांठा कांडtäन् चद. cभन्न्वब्र ब्रांबtवांरब ब्रांटाब्र अकtी बचद्र बांtवण बूर्डि tडब्रांब्र कब्रtरेब्रांझिटणन। छैहाँ अषन छैiहांब ८कांब रुश्चैब्रांरबब्र विका? थांtछ। थांबि * cनषि बांहे । बृङ्गाब नद्र ब्रांवtवांश्म ब्रांtब्रब्र बांथांब्र 4कè हैंiछ cठांण इब्र, छांहाँ ●थन निघैश्ब्रार्क चां८इ-बैह জামি দেখিয়াছি । कडेcब बांनिद्यां cमर्षिणांभ, 4८कचबसांकॅी शैडेिब्रांवरकङ्ग मtषा ब्रांनcबांख्न ब्रांtब्रड नांव छगब्रिछिछ बक वरतं गू# aई नयकांरब्रब्र भूष cनङ्कदर्न ब्रांभटबांहन ब्रांदग्नब्र यनंश्नां*ण दबू sिध्णव ॥ छriनि९, etद्रन, Bांकांब्रभांन यकृठिब्र गरिङ ब्रांजांब्र वज्राकडांप्र वा चणरत्वब्र धषाशर्डिंड जरुणचन कब्रिक क्रेि}ि°ज छणिड । ●काँझे यकtश्च cछोटब भिs cहण-{ डेनि बड़ेटबब्र *कजब विषjांछ वTांड्रिडेiब्र) ब्रांभाभांइन ब्रांटब्रब्र बांब्र७ कtब्रक डन बबूब्र नांम छरज्ञ* कब्रिब्रांझिजन cनसfज खांबांब्र भटन बोरे । छैॉकांब्रजांन ब्रांबद्दबांहम ब्रांटग्नब्र गहिछ गांकां९ कब्रिबांब्र छछ है९जt७ वांन-ऋन ब्रांचिद्दछ हदेtद, cद कांटलब्र कषl इऍrडtइ, छषन करजब्र खांहां८छब्र ऋाँडे हछ बाँहै। अद१ ब्रांबदबांहब ब्रांtब्रब्र नहिङ cण्था कब्रिञ्च वरजब cवं, *छेचब्र वछ, छिवि * बांबूरवद्र गरिठ थांबांब्र णांकां९ कब्रांश्tणव !” . wtxatum attra afò e "Precepts of Jesus” R "Appeals to the Christian Publio”-4ई अंश्छजिब्र थक गश्कब्र* बड़ेब ननzब्र इtत्र ह्यहम्नां८झ cपदिष्ठtfह । 4 गचtश जर्षिांटणंक्रां क्ङ्गिब्रजबक ● क्षैछिकब्र ७कडे घाँठेब| मृत्थछि पलिब्रां८इ, खांहः अषब७ वजि नांदे । भिननांग्रैौ 4छांटबब्र बांघ चांबांtवब्र ¢क्टन जानहरूरे सविद्वांटइन । लिनि यषtव चैब्रांबभूटबद्र बिनवांद्रीनचकांब्रफूड हिटनम, नटद्र ब्रांमध्वांइन बांटबद्ध मन नाश्ब्रा ध्रुधैब्र जांचक थेचडवांक् शब्रिख्णांन कब्रिब्रां अरकचब्र इंडे पर्व अंदन wtrą i anu Muritst ottiền stetty Second Father Adam উপাধি দেন। ইয়ুরোপে জাসিনার পূৰ্ব্বে দেখিয়ছিলাম, बांबवौब्र vब्राषांजकॉन हॉणशtछ अहांचंन्न अछाम्बब अक* पङ्कड श्रृंखिक चांकांटम्ल इॉलोरेञ्चाहिएजब ॥ ●छांटबङ्ग विषषां •iङ्गेौ वर्षबख जौरिरङ जां८झ्ञ ॥ ॐiहॉब्र बधन *v वदनटब्रब जदिक, किड खान बूक्ति अपन७ जकू५ ॥ वृषl झश* कछ। जश्च कडेtबब्र नब्लिकदृs cछtजक tझन मात्रक ●क भल्लौहड बॉन कटब्रव ॥ कडेन हरेद्दछ हैहांtनम्न बाक्लो ८ब्रट्ज se विविtछेब *ष । चांबांब नद्विsिछ नाजौ छ-cग्नब्र विक♚ जांबांब्र गचांग *ोडेब्रl वृकाँ जांबांधक ८क्ष कiिrद्ध जांभङ्ग* कgइब । आiनि विप्नब से९६८कJब्र সছিগু ভাষার আদেশ রক্ষা কড়িলাম। बिटनग 4छांcबद्ध कृशे कछांश् छtब्रङबtर्ष अधिकांक्विटजन ॥ ऎएांदगब्र महिज्र कष कहिटङ कटिङ अरब इश्८ङ जानििण cश्व कोप्णज्ञ छन्ध विनद्रौङ भख्दिछ छजिष्ठरछ । बुक जवछ ब्रांख ब्रांमध्वांश्ब८क किनिष्ठन। बछान् नगब्रिषांप्द्र वैब्राभशूब इहद्दङ कणिकांकांद्र चांनिष्ठा गांब्रकूजांब cब्रांप्छब्र- यकिन अशcन वांन क८ब्रन ॥ *श् ब्रांखांब्र चछ क्रिक ब्राजी बिटअब्र वांनांबवtणैटङ थांकिटङन ॥ ५३ वांनांबवाओ८छ इश्कौन् हीdèब्र थांबा हिण ८षfषन्न जांगिब्राहि । जांबांब विटवध्वांद्र बर्दे वttी बद्र कबिंब्रl aवकल्ले नांवांब्र१ अविब्र कब्रl छछिछ । विप्नगू बछांटबब्र काटइ तबिलांब कि जवहांब्र ब्रांछ| ●क वांजरूरक नूबक्वप्न अंइन कञ्चिब्रl छांहांब्र ब्रांछांब्रांब ब्रांच्च बांधकब्र१ कटद्वज । निर्हेtब्र छिनंवि बौभक ●कछन निविजिब्रांब क¢छांग्रेौ बड़े बबांशृ वांजकÉ८क भांछूष कब्रिएखब ।। ४ाककिम ब्रtअ! छिनदिब्र नहिङ कडूडां८व नांकf९ कब्रिट्छ निम्न तु:बन gष, डिनि श्रृंक्७)tण कबिक्री ५क्रन ििब्रटइएइम, किड ७ जबॉष कांणकटिक जड़ेब्र कि कबिटवन छादिब्र वTांकूण । इहे बबूल कथांबांठीं हैtठरइ वमन नवग्न बांणक घtद्र किन्न इ३ 4कबांब ●क्कि ●क्कि छांश्ब्रिां नरवाह ब्रांडाब cबtदृढ़ ef*ब्रां बनिन । ब्राङ1 नखडे हरब्रl बाणगरक गूज बजिब्रां जहन कब्रिटजब ।। विडेॉब अछांत्र ब्रांबांब्र cबाéगूद्ध vब्रtषांथनांन ब्राcग्रब्र निकरू विबूख हड़ेब्रांsिtजन । वृकांब नहिठ ब्राषlअनांtनब्र विtनव कष बांडt इब्र बांहे किड अठिनि गक्लिद्दछ जांनिकांब ७ गढ़ c*ष कब्रिग्न बांश्वांघ गक्षद्म श्iद्म गश्छि Giशांङ्ग cहषां श्ख ।। 4मि वtब चागिता। अछाम ७ छैiहांब्र गप्नौ८क वजिष्णन, “ब्रांषांथनांप्नब बांडtब वृङ्क हर्हेब्रांट्सह-किड ब्रजाँ&यनां८णब्र बांछ1 4पबe छौनिष्ठ *' कषीछे हैहांtनब्र विक♚ बकs cईब्राजिब्र बङ cवांक्ष ह्खम्नांब्र हैहॉब्रां ब्रांछांटक नमछ नूबन कब्रिटछ जकूटब्रॉष कtबन । यफूाखtद्र बूकिtजन cष, ब्रांछांटक ?**टव छैiहांब्र निड1 ठिबकि विशांह ¢क्म । ब्रांबद्दमांहन ब्रांरब्रब्र छूडौद्र बौब्र कष छैiहांब्र कश्तौब्रांनक्tिअब्र वांश्दिब्र ८भ cकह छांप्न-4दे चांनि यषय रुबिजॉम ॥ ठtव ब्रtषांधनांक ७ ब्रधांऽयनांन जrहांकड़ खांडे । किड़ देहांtनब्र बांठी छिब्र 4 कषtब्र खर्ष cदोष इन्न 4* cष, ब्रांबांब कवि♚1 औरकई ब्रमांथनांक अ1 बजिघ्र बाविष्ठमछैशब्र अर्द्धशाीिएक ििवत्ख्न बाँ । उँहाब्र वृङ्काब, बहकोण ऋग्न ब्रघांथमांग जपनख इन tष, छैtशब्र बथांप*ॐषांबि* ८क ॥ 4 कष বাটীতে গুণিয়ছিলাম । विध्नन् *छांब वरणम, €iहांब चां★ौ ७ ब्रtभरमांख्नं ब्रॉब्र ऊँछ८ग्न विजित्वा बौक जांश श्रेष्ठ इझेब्रांबविप्नब नूटम पर्वभूखक दांत्रणाद्र जकूषांक कब्रिtङ चाबख कtबब, किख कार्षी cनव इश्वांद्र नूहक फेखtब्रब्ररे बौषन cनए इश्ब्रॉर्षिण ।